लक्ष्मीपुर के सामने रिंग बांध कटा, 30 झोपड़ियां नदी में विलीन

Tamkuhi कुशीनगर

डीएम-एसपी ने रात में ही किया था निरीक्षण, युद्ध स्तर पर बचाव कार्य शुरू
बचाव कार्य में देरी का आरोप लगा विधायक अजय कुमार लल्लू धरने पर बैठे
कुशीनगर। शुक्रवार की रात लक्ष्मीपुर गांव के सामने गंडक के मुख्य बांध के आगे बने मिट्टी के रिंग बांध के 100 मीटर लंबाई में कट जाने से अफरातफरी मच गई। कटान के चलते मुख्य बांध और रिंग बांध के बीच बसे लक्ष्मीपुर गांव के 30 लोगों की झोपड़ियां नदी में विलीन हो गई हैं। शुक्रवार की रात डीएम व एसपी के निरीक्षण के बाद शनिवार सुबह बचाव कार्य तेज कर दिया गया। उधर, बचाव कार्य में लापरवाही का आरोप लगाते हुए तमकुहीराज के कांग्रेस विधायक अजय कुमार लल्लू धरने पर बैठ गए हैं। उन्होंने कटान रुकने तक धरना देने की घोषणा की है।
गंडक नदी करीब एक सप्ताह से लक्ष्मीपुर गांव के सामने कटान कर रही है। लोगों के बार-बार कहने के बाद भी बाढ़ खंड बचाव कार्य को लेकर निष्क्रिय बना रहा। बुधवार से जलस्तर में उतार-चढ़ाव के साथ ही कटान की रफ्तार तेज हो गई। दो दिन में बांध और नदी के बीच बसे लक्ष्मीपुर गांव निवासी हेमंत, अमला देवी, बसंती देवी, अशोक, हीरा, जगदेव, इंदल, शंभु, सुरन, परशुराम, शुकवरिया, अमेरिका, अभिजीत, सुजीत, भोला, रामअधार, ललती देवी, ढेलिया, शिवनाथ, राजेश, रामेश्वर, फूलमती, बड़ाई समेत 30 लोगों की झोपड़ियां नदी में विलीन हो गईं। तेजी से आगे बढ़ रही नदी ने शुक्रवार की रात लक्ष्मीपुर गांव के समीप अमवा खास तटबंध की सुरक्षा के लिए बनाए गए रिंग बांध को करीब 100 मीटर लंबाई में काट दिया। शनिवार सुबह से बाढ़ खंड के अभियंता बांध को बचाने व कटान रोकने के प्रयास में जुट गए हैं। बोल्डर व प्लास्टिक की बोरियों में मिट्टी भरकर गिराया जा रहा है, लेकिन अभी कटान पर नियंत्रण नहीं पाया जा सका है। उधर, कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता और तमकुहीराज के विधायक अजय कुमार लल्लू ग्रामीणों व कार्यकर्ताओं के साथ अमवा खास तटबंध पर धरने पर बैठ गए हैं। सुबह बांध पर पहुंचे विधायक ने दूरभाष पर अफसरों को खूब खरी-खोटी सुनाई। दोपहर में बाढ़ खंड के अधीक्षण अभियंता ने भी निरीक्षण किया और अभियंताओं को जरूरी दिशा निर्देश दिए।