हिजबुल मुजाहिदीन ने करवाया था जम्मू बस अड्डे पर धमाका, एक गिरफ्तार

राष्ट्रीय खबर

जम्मू-कश्मीर में सबसे व्यस्त जम्मू बस स्टैंड पर गुरुवार को ग्रेनेड फेंकने से हुए एक धमाके में एक यात्री की मौत हो गई वहीं 32 लोग घायल हो गए। जम्मू के आईजीपी (इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस) मनीष के सिन्हा ने जानकारी दी कि सीसीटीवी कैमरा की फुटेज की पड़ताल की गई है। गवाहों की मौखिक गवाही के आधार पर हमने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया था। उसका नाम यासिर भट्ट है। उसने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है। आईजीपी ने बताया कि भट्ट को ग्रेनेड फेंकने का आदेश कुलगाम में हिजबुल मुजाहिदीन के जिला कमांडर फारूख अहमद उर्फ उमर ने दिया था। 

ANI@ANI

IGP Jammu, Manish K Sinha on explosion at Jammu bus-stand: Yasir Bhatt was tasked to throw this grenade by District Commander of Hizbul Mujahideen in Kulgam, Farooq Ahmed Bhatt alias Omar.ANI✔@ANIJ&K Police’s Manish K Sinha on explosion at Jammu bus-stand: Teams were constituted to work on leads, CCTV camera footage examined, based on oral testimony of witnesses we were able to identify a suspect. He was detained, his name is Yasir Bhatt, he has confessed to the crime.

धमाके की चपेट में आए घायलों का इलाज जीएमसी में चल रहा है। बड़ी संख्या में पुलिस ने पूरे इलाके को घेर लिया और जांच शुरू की गई। मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम समेत अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौके पर मौजूद थे। विस्फोट कहां और कैसे हुआ इसकी स्पष्ट जानकारी अभी नहीं मिल पाई है। कुछ समय पहले भी बस स्टैंड पर देर रात एक धमाका हुआ था, हालांकि उसमें कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ था।

प्रत्यक्षदशिर्यों के अनुसार, सामान्य दिनों की तरह भीड़भाड़ थी। सुबह लगभग 11.30 बजे एक तेज धमाके की आवाज सुनाई दी और लोग इधर-उधर भागते नजर आए। धमाके से बसों में व्यापक नुकसान पहुंचा और उसके कांच टूट गए। जिस बस के पास यह धमाका हुआ उसमें छह से सात लोग सवार थे। इनके अलावा धमाके से आसपास के दुकानदार व कुछ यात्री घायल हो गए। 

इन्हें तुरंत स्थानीय लोगों के सहयोग से गवर्नमेंट मेडिकल कालेज ले जाया गया। इनमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है। मृत युवक की शिनाख्त उत्तराखंड, हरिद्वार में कल्यानपुर के मो. शारिक(17) के रूप में हुई है। धमाके की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस व सीआरपीएफ के जवान वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंच गए। पूरे एरिया को कॉर्डन ऑफ कर हमलावर की तलाश की जा रही है। धमाके से सबसे ज्यादा नुकसान नजदीक के एक दुकानदार को हुआ है। उसकी हालत काफी गंभीर है। पुलिस इस बात की जानकारी जुटा रही है कि धमाका कैसे हुआ।

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बस स्टैंड पर हुए ग्रेनेड हमले की निंदा की है। उन्होंने मृत के परिजनों को पांच लाख रूपए और घायलों को बीस हजार रूपए देने की घोषणा की है। 

“जिस व्यक्ति ने ग्रेनेड फेंका था उसे जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।”- दिलबाग सिंह, डीजीपी जम्मू-कश्मीर 

View image on Twitter

View image on Twitter

ANI@ANI

#JammuAndKashmir DGP Dilbagh Singh: The person who threw the grenade at the Jammu bus stand earlier today, has been arrested.8025:02 PM – Mar 7, 2019381 people are talking about thisTwitter Ads info and privacy

“बस स्टैंड पर ग्रेनेड से हमला हुआ है। इसमें 32 लोग घायल हुए हैं। सभी घायलों को जीएमसी में भर्ती कराया गया है।”- एमके सिन्हा, आईजीपी जम्मू   

लगा जैसा बस का टायर फटा
एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि लगभग 11.30 बजे एक धमाके की आवाज सुनाई दी। पहले तो लगा कि किसी वाहन का टायर फट गया है। परंतु आवाज की दिशा में जाने पर कई लोग खून से लथपथ नजर आए। घायलों में यात्रियों के अलावा स्थानीय दुकानदार व काम करने वाले लोग भी शामिल हैं।

घटनास्थल पर बिखरे कांच के टुकड़े
धमाके के बाद घटना स्थल पर बड़ी संख्या में कांच के टुकड़े बिखरे पड़े हैं।

पहले से थे इनपुट
पुलिस का कहना है कि पुलवामा कांड के बाद इस तरह के इनपुट थे कि आतंकी किसी घटना को अंजाम दे सकते हैं, परंतु कोई सटीक इनपुट नहीं था। इसीलिए इस घटना को इंटेलीजेंस फेल्योर नहीं कहा जा सकता।

बस स्टैंड पर अफरातफरी
धमाके के बाद बस स्टैंड पर अफरातफरी का माहौल है। यहां बड़ी संख्या में लोग कश्मीर व दूसरे राज्यों में जाने के लिए मौजूद थे। वहां से फिलहाल लोगों को हटा दिया गया है।पहले भी दो बार हो चुका है हमला
बस स्टैंड को आतंकी पहले भी दो बार निशाना बना चुके हैं। इससे पहले 29 दिसंबर 2018 को भी आतंकियों ने बस स्टैंड को निशाना बनाया था। उस समय आतंकी बस स्टैंड पर ग्रेनेड फेंककर भाग गए थे। तब कोई नुकसान नहीं हुआ था। इससे सात महीने पहले बीसी रोड पर बस स्टैंड के मुख्य गेट के पास 24 मई 2018 को ग्रेनेड विस्फोट हुआ था जिसमें दो पुलिसकर्मी और एक आम नागरिक घायल हुए थे। बताते हैं कि यह दोनों विस्फोट पुलिस को निशाना बनाकर किया गया था।