Google ने लॉन्च किया प्रोजेक्ट Navlekha, जानें क्या है खास

गैजेट

ख़ास बातें

  • Google Tez का नाम बदलकर हुआ Google Pay
  • प्रिंट पब्लिशर्स को ऑनलाइन लाना चाहता है गूगल
  • शुरुआती तीन साल तक पब्लिकेशन टूल और डोमेन नाम मिलेगा फ्री
Google for India 2018 इवेंट का आयोजन आज नई दिल्ली में हुआ। गूगल फॉर इंडिया 2018 इवेंट के दौरान कंपनी ने नेक्स्ट बिलियन यूजर नेतृत्व के तहत प्रोजेक्ट नवलेखा की घोषणा की है। Google for India 2018 इवेंट में कई बड़े ऐलान हुए, कंपनी ने Google Tez के नाम में भी बदलाव दिया है। गूगल तेज का नाम बदलकर Google Pay कर दिया गया है। गूगल का प्रोजेक्ट नवलेखा खासतौर पर क्षेत्रीय भाषा में कंटेंट लिखने वाले पब्लिशर्स की मदद करेगा ताकि वह अपने कंटेंट को ऑनलाइन पब्लिश कर सकें।

Google ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए कहा कि अंग्रेजी की तुलना में भारतीय भाषा में कंटेंट केवल 1 प्रतिशत है। सबसे बड़ा मुद्दा यह है कि क्षेत्रीय भाषा के पब्लिशर को इंटरनेट पर कंटेंट ले जाने के लिए काफी मुश्किल प्रोसेस से होकर गुजरना पड़ता है। गूगल के प्रोजेक्ट Navlekha के तहत आसान ऐप्लिकेशन प्रोसेस की मदद से वेबपेज बना सकेंगे। गूगल के भारत और दक्षिणपूर्व एशिया के वाइस प्रेजिडेंट राजन आनंदन ने ब्लॉग पोस्ट में कहा है कि नवलेखा शब्द संस्कृत से लिया गया है। Navlekha का मतलब है ‘लिखने का एक नया तरीका’।

ध्यान दें कि प्रोजेक्ट Navlekha जल्द हिंदी पब्लिकेशन के लिए उपलब्ध होगा। इच्छुक यूजर गूगल के नवलेखा पेज पर जाकर फ्री पब्लिकेशन वेबसाइट के लिए रजिस्टर कर सकते हैं। गूगल के Navlekha प्रोग्राम से जुड़ने के लिए सबसे पहले साइन-अप करें। इसके बाद Google की टीम आपके ऐप्लिकेशन को रिव्यू कर आपसे संपर्क में रहेगी। पंजीकृत भारतीय पब्लिकेशन भी वेबपेज पर जाकर साइन-अप कर सकते हैं। साइन-अप करने के बाद आपको इस बात की जानकारी मिलती रहेगी कि अन्य भाषाओं को कब जोड़ा जाएगा।